Connected

Ghazal Shayari

Ghazal Shayari :-ग़ज़ल शायरी 

19th November 2019

Whenever the name of Ghazal Shayari comes, it comes to our mind that there is definitely some love-struck or a stumbling person in love is speaking his words in the form of these ghazals (Ghazal Shayari) and these things happen to his heart which touches our hearts. So let's share some lines here. If you like, remember it in your prayer.


GHAZAL SHAYARI


इश्क के किस्से मोहब्बत की कहानी ले गया
तेरा एक वादा मेरी सारी जवानी ले गया
दे के लूटा हूँ किताबें,कॉपियां,कॉलेज के नोट
लेने वाला खुशबू भी पुरानी ले गया
आँखें, चेहरा,दिल,गिरेबान,सब के सब जल थल हुये
बारिश-ऐ-ग़म उठा तबीयत की रवानी ले गया
आरज़ू, उम्मीद,ख्वाहिश,शौक,बेताबी,जूनून
वक़्त एक-एक कर के तेरी हर निशानी ले गया
मेरा बिस्तर,मेरी आंखें,मेरी रातें,मेरी नींद
ख्वाब तेरा,दुसरो तक क्यों कहानी ले गया
उस ने मोती लेकर मुझको खाली कर दिया अल्फ़ाज़
लफ्ज़ मेरे रह गए और वो मायने ले गया
Ishq ke kisse mohabbat ki kahani le gaya
Tera ek waada meri saari jawani le gaya
De ke loota hoon kitaabe,kopiyaa,college ke note
Lene wala khushboo bhi purani le gaya
Aankhein, chehra,dil,girebaan,sab ke sab jal thal huye
Barish-e-gham utha tabiyat ki rawani le gaya
Arzoo, ummid,khwahish,shauk,betabi,junoon
Waqt ek-ek kar ke teri har nishani le gaya
Mera bistar,meri ankhein,meri ratein,meri nind
Khwab tera,dusro tak kyu kahani le gaya
Us ne moti lekar mujhko khali kar diya Alfaaz
Lafz mere rah gaye aur wo mayane le gaya

Ghazal Shayari sad

एक लड़की दीवानी बन न जाए
कही पहली कहानी बन न जाए
तू इतना दर्द देता है मुझको
मेरी आँखों का पानी बन न जाए
तू आ जाता है इतनी जोश में
जो तेरी मुश्किल जवानी बन न जाए
तेरा हमसफ़र मैं ही बन न जाऊं
मेरी रानी तू ही बन न जाए
कही वो भी अमल को छोड़ करके
महज बातो का ज्ञानी बन न जाए
वजह फिर छीन गयी दौलत हमारी
उसे शक था कही दानी बन न जाए
नहीं जो हम तरीके से रखेंगे अल्फ़ाज़
नयी से वो फिर पुरानी बन न जाए
Ek ladki diwani ban na jaye
Kahi pahli kahani ban na jaye
Tu itna dard deta hai mujhko
Meri ankhon ka paani ban na jaye
Tu aa jaata hai itni josh me jo
Teri mushkil jawani ban na jaye
Tera hamsafar main hi ban na jaau
Meri raani tu hi ban na jaye
Kahi wo bhi amal ko chhor karke
Mahaj baato ka gyaani ban na jaye
Wajah phir chhin gayi daulat hamari
Use shak tha kahi daani ban na jaye
Nahi jo hum tarike se rakhenge Alfaaz
Nayi se wo phir purani ban na jaye

Ghazal shayari lyrics

शोबदा बाज़ू (जादूगिरी) से होशियार नहीं है
लख्ते जिगर मेरा होनहार नहीं है
शौक से शरमाया हयात लगा दो
इश्क़ ख़सारे का कारोबार नहीं है
वादी पर पेंच का हूँ एक मुसाफिर
हद नज़र राह उस्तहार नहीं है
सर पे मेरे आ गयी है धुप की शिद्दत
और शजर (दरख़्त) कोई साया दार नहीं है
बात से तज़लील(ज़िल्लत) कर अल्फ़ाज़ न मेरी
अहले नज़र तेरा ये शयार(पहचान) नहीं है
Shobada baazu (jadugiri)  se hoshiyaar nahi hai
Lakhte jigar mera honhaar nahi hai
Shauk se sharmaya hayaat laga do
Ishq khasaare ka kaarobar nahi hai
Waadi par pench ka hoon ek musafir
Had nazar raah ustahaar nahi hai
Sar pe mere aa gayi hai dhoop ki shiddat
Aur Shajar (darakht) koi saaya daar nahi hai
Baat se tajleel(zillat)  kar Alfaaz na meri
Ahle nazar tera ye shyaar(pahchaan) nahi hai

Sad ghazal shayari hindi 2 line

जिस दिन मुझसे वो मेरा दिलबर बदल गया
मेरी हयात का हर एक मंज़र बदल गया
वो मेरे घर में आज अचानक जो आ गए
अब लगा कि मेरा मुक़द्दर बदल गया
उस राह-ऐ- ज़िन्दगी में अजब हादसे हुए
रहज़न (डाकू) बदल गया,कभी रहबर बदल गया
इस बात पे यकीं कोई किस तरह करे
ज़ुल्म-ओ-सितम के बाद सितमगर बदल गया
अपने भी साथ छोड़ गए गैर बन गए
अल्फ़ाज़ वो वक़्त आया मेरा दर बदल गया
Jis din mujhse wo mera dilbar badal gaya
Meri hayaat ka har ek manzar badal gaya
Wo mere ghar me aaj achanak jo aa gaye
Ab laga ke mera muqaddar badal gaya
Us raah-e- zindagi me ajab haadse huye
Rahzan (daaku) badal gaya,kabhi rahbar badal gaya
Is baat pe yakeen koi kis tarah kare
Zulm-o-sitam ke baad sitamgar badal gaya
Apne bhi sath chhor gaye gair ban gaye
Alfaaz wo waqt aaya mera dar badal gaya

Pyar ghazal shayari

अगर उसकी होश के हाथ में खंजर नहीं होता
तो अपने दोस्त को मैं देख कर शशदर (परेशान) नहीं होता
शऊर व आगाही (बेदारी) इस बात से अब तक है न वाक़िफ़
जूनून की सल्तनत में क्यूँ खुर्द(अक्लमंद) का घर नहीं होता
हमारे गावों की हरियालियाँ आँखों की ठंडक है
कभी ऐसा तुम्हारे शहर का मंज़र नहीं होता
खंगालो शौक से तुम वक़्त के गहरे समन्दर को
हवस के शीप में अख़्लास(हक़ीक़त) का गौहर नहीं होता
बहुत मासूम है अल्फ़ाज़, क्या वो समझेगा
हक़ीक़त बी नज़र में ख्वाब का मंज़र नहीं होता
Agar uski hosh ke hath me khanzar nahi hota
To apne dost ko main dekh kar shashdar (pareshan) nahi hota
Shaoor  wo aagahi (bedaari) is baat se ab tak hai na waqif
Junoon ki saltanat me kyun khurd( akalmand) ka ghar nahi hota
Hamare gaon ki haryaaliyan aankho ki thandak hai
Kabhi aisa tumhare shahar ka manzar nahi hota
Khangaalo shauk se tum waqt ke gahre samandar ko
Hawas ke sheep me akhlaas(haqiqat) ka gauhar nahi hota
Bahut masoom hai Alfaaz, kya wo samjhega
Haqiqat bi nazar me khwaab ka manzar nahi hota


Ghazal shayari inhindi

देखो वहाँ तस्वीर जाकर
लिखो कश्मीर पर कश्मीर जाकर
ज़बान-ऐ-इश्क़ अब समझे न कोई
ग़ज़ल किस को सुनाये अल्फ़ाज़ जाकर
सताता है उसे राँझा बहुत अब
कहाँ बैठे बताओ अब हीर जाकर
तभी जाकर मेरे हालात सुधरे
जुडी है तुझसे जब तक़दीर जाकर
शब्-ऐ-तारिक में आकर मिले वो
अल्फ़ाज़ उनसे कहो तदबीर(होशियारी से) जाकर
Dekho waha tasweer jaakar
Likho Kashmir par Kashmir jaakar
Jawaan-ae-Ishq ab samjhe na koi
Ghazal kis ko sunaye Alfaaz jaakar
Sataata hai use ranjhaa bahut ab
Kaha baithe batao ab heer jaakar
Tabhi jakar mere haalat sudhre
Judi hai tujhse jab taqdeer jaakar
Shab-ae-taarik me aakar mile wo
Alfaaz unse kaho tadbeer(hoshiyari se) jaakar

Ghazal shayari inenglish

उल्फत की रहगुज़र को क़ज़ा कह लिया करो
हर संग दिल को जान-ऐ-वफ़ा कह लिया करो
बातिल अगर चिढा करे हक़ परस्त पर
अज़्म-ओ-अमल को सैफ व इशा कह लिया करो
दिल को सुकून मिलेगा जिगर को तमानियत
ग़ज़लों के बदले हम्दो शना कह लिया करो
सारा समाज नंगा हुआ जा रहा है आज
तहज़ीबे मग़रिबी को बला कह लिया करो
पीने से अल्फ़ाज़ मिलती है बीमार को शिफ़ा
ज़मज़म को हर मर्ज की दवा कह लिया करो
उनके जलवे निगाहो में ढलते रहे
कभी हमें भी अपना कह लिया करो
Ulfat ki rahguzar ko kazaa kah liya karo
Har sang dil ko jaan-ae-wafa kah liya karo
Baatil agar chidha kare haq parast par
Azmo amal ko saif w esha kah liya karo
Dil ko sukoon milega jigar ko tamaaniyat
Ghazalo ke badle hamdo shana kah liya karo
Saara samaaj nanga hua jaa raha hai aaj
Tahzeebe maghribi ko balaa kah liya karo
Peene se Alfaaz milti hai  bimaar ko shifa
Zamzam ko har marz ki dawa kah liya karo
Unke jalwe nigaaho me dhalte rahe
Kabhi hame bhi apna kah liya karo 

Ghazal shayari imagesin hindi

हौसले दिल ही दिल में मचलते रहे
दोस्तों ने तो कांटे बिछाए बहुत
मुस्कुराते हुए हम भी चलते रहे
उसकी भरपूर उठल जवानी पर हम
मुस्कुराते सिसकते मचलते रहे
रास्ते मंज़िले दूर होती गयी
मेरी फितरत में चलना था चलते रहे
अश्क बहते रहे दिल धड़कता रहा
रात भर करवटें हम बदलते रहे
वक़्त युही गुज़रती रही अल्फ़ाज़
चोट खाते रहे और संभलते रहे
Hosle dil hi dil me machalte rahe
Dosto ne to kante bichhaye bahut
Muskurate huye hum bhi chalte rahe
Uski bahrpoor uthal jawani par hum
Muskurate sisakte machalte rahe
Raaste manzile door hoti gayi
Meri fitrat me chalna tha chalte rahe
Ashq bahte rahe dil dhadhkata raha
Raat bhar karwate hum badalte rahe
Waqt yuhi guzarti rahi Alfaaz
Chot khate rahe aur sambhalte rahe

Mohabbat ghazalshayari

कहने को खतरा होता है
खुद में जो दरिया होता है
तू उनकी महज मस्क-ऐ- सितम है
आगे देखो क्या होता है
आशिक़ बागी हो जाते है
हुस्न पे जब पहरा होता है
सुनता हूँ तीर-ऐ-नज़र का
घाव ज़रा गहरा होता है
नींद पराई हो जाती है
इश्क़ में ऐसा क्या होता है
अल्फ़ाज़ उनकी बज़्म में हर पल
आँखों पर पहरा होता है
Kahne ko katra hota hai
Khud me jo dariya hota hai
Tu unki mahaj mask-e- sitam hai
Aage dekho kya hota hai
Aashiq baagi ho jate hai
Husn pe jab pehra hota hai
Sunta hoon teer-e-nazar ka
Ghaaw zara gehra hota hai
Nind parayi ho jati hai
Ishq me aisa kya hota hai
Alfaaz unki bazm me har pal
Aankho par pehra hota hai

Ghazal shayarihindi

ग़म के दहलीज़ से ऐ काश के बाहर होता
दर्द होता नहीं सीने में जो पत्थर होता
हम सलीके से गुज़र करते तो बेहतर होता
पाँव अपना भी कभी चादर से बाहर नहीं होता
दूर हाज़िर ये मेरे सब्र का पैमाना है
कोई मुनीश मेरा होता तो कोई रहबर होता
कांटो के साथ नज़र आते है गुलशन में फूल
हमको माहौल मोहब्बत ये मयस्सर होता
ठोकरों से न मिली मुझको रिहाई अब तक
मैं हिदायत के लिए मील का पत्थर होता
ये सिंध शाह की जानिब से अता किया होता
वरना पाज़ेब ये लोहे का बेकार होता
बज़्म दिल गैर न थी प्यास मेरी बुझ न सकी
दाद और तहसीन से अल्फ़ाज़ मैं खुशबूदार होता
Gham ke dahleez se ae kash ke bahar hota
Dard hota nahi seene me jo pathar hota
Hum salike se guzar karte to behtar hota
Pao apna bhi kabhi chadar se baahar nahi hota
Door hazir ye mere sabr ka paimana hai
Koi munish mera hota to koi rahbar hota
Kaanto ke sath nazar aate hai gulshan me phool
Humko mahaul mohabbat ye mayassar hota
Thokaro se na mili mujhko rihaayi ab tak
Main hidayat ke liye meel ka pathar hota
Ye sind shah ki janib se ata kiya hota
Warna paazeb ye lohe ka bekaar hota
Bazm dil gair na thi pyaas meri bujh na saki
Daad aur tahseen se Alfaaz main khushbudaar hota 

Pyaas meri bujh na saki

ज़िन्दगी से जंग मैं करता हुआ
बुज़दिलो को दंग मैं करता हुआ
रोकता क्यों नहीं कोई मुझे
शांति को भंग मैं करता हुआ
क्यों पिघलने दूँ किसी को धुप में
मोम को हूँ मैं साथ करता हुआ
तीगे खू आशाम इसकी देख कर
रंग पिरहो रंग मैं करता हुआ
क्या कोई पहचान सकता है मुझे
मुस्तक़िल निरंग मैं करता हुआ
जैसे कोई फितना तयम्मुर हो
बढ़ रहा हूँ मैं जंग करता हुआ
तंग आकर ज़िन्दगी ढंग से अल्फ़ाज़
ज़िन्दगी को मैं तंग करता हुआ
Zindagi se jung main karta hua
Buzdilo ko dang main karta hua
Rokta kyu nahi koi mujhe
Shaanti ko bhang main karta hua
Kyu pighalne dun kisi ko dhoop me
Mom ko hoon main sang karta hua
Teege khoon aasham iski dekh kar
Rang pirho rang main karta hua
Kya koi pahchan sakta hai mujhe
Mustaqil  neerang main karta hua
Jaise koi fitna tayammur ho
Badh raha hu main jung karta hua
Tang aakar zindagi dhang se Alfaaz
Zindagi ko main tang karta hua 

Rokta kyu nahi koi

मैं फूल ही ज़माने को बस बांटता रहा
गरचे वो संग मेरी तरफ फेंकता रहा
टोपी मेरी उछाल रहे थे मेरे ही दोस्त
ख़ामोशी से खड़ा हुआ मैं देखता रहा
फुर्सत कहाँ मिली कभी लेते सुकून का सांस
ताउम्र मुश्किलों की गिरह खोलता रहा
हक़ बात कहनी थी गरचे हमारे दोस्त
जकड़े हुए गला थे मगर बोलता रहा
अपनों से दोस्तों से मुझे जख्म ही मिले
ऐसी भी दुनिया होती मैं सोचता रहा
क्या इतनी भी बदलती है दुनिया मेरे ख़ुदा
अपने वतन में अपना पता पूछता रहा
अब सर ज़मीन शाद पर न अहलो की है भीड़
क्या यही हमारा मुल्क है मैं सोचता रहा
कब तक मैं हादसात से डरता रहूँ अल्फ़ाज़
तूफ़ान के रुख पे कश्ती को खुद मोड़ता रहा
Main phool hi zamane ko bas baantata raha
Garche wo sang meri taraf phenkta raha
Topi meri uchhal rahe the mere hi dost
Khamoshi se khada hua main dekhta raha
Fursat kahan mili kabhi lete sukoon ka saans
Taaumar mushkilon ki girh kholta raha
Haq baat kahni thi garche hamare dost
Jakre huye gala the magar bolta raha
Apno se dosto se mujhe zakhm hi mile
Aisi bhi duniya hoti main sochta raha
Kya itni bhi badalti hai duniya mere khuda
Apne watan me apna pataa puchta raha
Ab sar zameen shad par na ahlo ki hai bheed
Kya yahi hamara mulk  hai main sochta raha
Kab tak main hadsaat se darta rahoon Alfaaz
Toofan ke rukh pe kashti ko khud morta raha


Fursat kaha mili kabhi


गर वही रंग वही लम्हे सुहाने होते
ज़िंदा रहने के लिए एक बहाने होते
हुस्न मेरा भी अगर नुमाईश पे आ जाता
न जाने तुझ जैसे मेरे कितने दीवाने होते
ये तो बस तेरी नवाज़िश है करम है वरना
हम तेरे शहर में रहकर भी बेगाने होते
इसीलिए मैंने किया ख़त्म ताल्लुक उस से
साथ रहता तो बड़े नखरे उठाने होते
मैंने बेइंतहा नहीं उस शख्स को चाहा वरना
मुझसे मंसूब कई और फ़साने होते
इसलिए मैंने तेरे इश्क से तौबा कर ली
तुझको पाने में कई ख्वाब भुलाने होते
भर गया होता दिल अगर तेरी चाहत से अल्फ़ाज़
उसके होठों पे बहुत सारे बहाने होते
Gar wahi rang wahi lamhe suhane hote
Zinda rahne ke liye ek bahaane hote
Husn  mera bhi agar numaish pe aa jata
Na Jaane tujh jaise mere kitne deewane hote
Ye to bas teri nawazish hai karam hai warna
Ham tere shahar me rahkar bhi begaane hote
Isiliye maine kiya khatm tallook us se
Sath rahta to bade nakhre uthaane hote
Maine beintaha nahi us shakhs ko chaha warna
Mujhse mansoob kayi aur fasaane hote
Isliye maine tere ishq se tauba kar li
Tujhko pane me kayi khwaab bhulaane hote
Bhar gaya hota dil agar teri chahat se Alfaaz
Uske hothon pe bahut saare bahaane hote  

Ishq se tauba

शिर्क की हमसे तो हिमायत हो नहीं सकती
अब किसी और से उल्फ़त तो हो नहीं सकती
हम तेरी याद से ग़ाफ़िल तो नहीं रह सकते
मुझसे ये ग़फ़लत तो नहीं हो सकती
इस तरह जल्द बिछड़ने का तसव्वुर किया
इस क़दर जल्द क़यामत तो नहीं हो सकती
अलफ़ाज़ अच्छे भी अगर हो तो दुनिया वाले भी कहे
बात कुछ भी हो हक़ीक़त तो नहीं हो सकती
आज भी दुनिया को ये यकीन है कि
दस्तो ताग़ूत पे बैत तो नहीं हो सकती
हमसे तो मजनून सरदार पूछा करे
हमसे तौहीन मोहब्बत तो नहीं हो सकती
अब जनाज़ा ही उठे तो उठे अल्फ़ाज़
कूचे यार से अब हिज़रत तो नहीं हो सकती
Shirk ki humse to himaayat ho nahi sakti
Ab kisi aur se ulfat to ho nahi sakti
Hum teri yaad se ghafil to nahi rah sakte
Mujhse ye ghaflat to nahi ho sakti
Is tarah jald bichharne ka tasawwur kiya
Is qadar jald qayamat to nahi ho sakti
Alfaaz ache bhi agar ho to duniya wale bhi kahe
Baat kuch bhi ho haqiqat to nahi ho sakti
Aaj bhi duniya ko ye yakeen hai ki
Dasto taaghoot pe bait to nahi ho sakti
Humse to majnun sardar puchha kare
Humse tauheen mohabbat to nahi ho sakti
Ab janaza hi uthe to uthe Alfaaz
Kooche yaar se ab hizrat to nahi ho sakti 

Ab janaza hi uthe

लबों पे अपनी हसी जो सजा के बैठे है
ग़म और इल्म को जहाँ से छुपा के बैठे है
अजीब डर है दिलों में समाया हुआ यहाँ
हम अपने चेहरे पे चेहरा लगा के बैठे है
निशाना जो है हवाओं का गुलिश्तां में अल्फ़ाज़
इस शज़र पे नशिमन बना के बैठे है
ग़र्ज़ नहीं ग़म जाना से कोई रखते है
ग़म जहां को ही अपना बना के बैठे है
वही क़त्ल भी करते वही मसीहा भी है
न जाने कैसा सबक़ वो पढ़ा के बैठे है
हमें है याद कहाँ कुछ भी अपने मांझी को
हर एक नक़्श कहन को मिटा के बैठे है
बिना फ़िक्र नज़र मिली थी जो वर्शे में
उसे भी तो हम यहाँ पे गवाँ के बैठे है
Labon pe apni hasi jo saja ke baithe hai
Gham aur ilm ko jahan se chhupa ke baithe hai
Ajib darr hai dilon me samaya hua yahan
Hum apne chehre pe chehra laga ke baithe hai
Nishaana jo hai hawaaon ka gulishtaan me Alfaaz
Is shazr pe nashiman bana ke baithe hai
Gharz nahi gham jana se koi rakhte hai
Gham jahaan ko hi apna banaa ke baithe hai
Wahi qatl bhi karte wahi mashihaa bhi hai
Na jaane kaisa sabak wo padhaa ke baithe hai
Hame hai yaad kahan kuch bhi apne manjhi ko
Har ek naksh kahan ko mitaa ke baithe hai
Bina fikr nazar mili thi jo warshe me
Use bhi to hum yahan pe gawan ke baithe hai

Nazar mili thi

वो हसीन लब वो नज़र भूल गए
काले जादू का असर भूल गए
उसकी तस्वीर उभरती ही नहीं
जबसे हम उसे भूल गए
नाज़ो अन्दाज़ तेरे देख के हम
गर्दिश शाम-ओ-शहर भूल गए
आबरू खाक में मिल जाएगी
दर्स अस्लाफ अगर भूल गए
खौफ सियाद से सारे बसर
घोसले शाज़ और शज़र भूल गए
खौफ है मर्द मुजाहिद तेरे
जंग में तीग़ और तबर भूल गए
हम भी है कैसे मुसाफिर मत पूछ
चल पड़े जाद सफ़र भूल गए
है यही वक़्त की गर्दिश शायद
बाप को उसके पसर भूल गए
मुँह दिखाओगे उसे कैसे अल्फ़ाज़
अपने मालिक को अगर भूल गए
Wo haseen lab wo nazar bhul gaye
Kale jaadu ka asar bhul gaye
Uski tasweer ubharti hi nahi
Jabse hum use bhul gaye
Naazo andaaz tere dekh ke hum
Gardish sham-o-shahar bhul gaye
Aabru khaakh me mil jayegi
Dars aslaaf agar bhul gaye
Khauf siyaad se saare taayr
Ghosle shaaz aur shazar bhul gaye
Khauf hai mard mujahid tere
Jang me teeg aur tabar bhul gaye
Hum bhi hai kaise musafir mat puchh
Chal pade jaad safar bhul gaye
Hai yahi waqt ki gardish shayad
Baap ko uske pasar bhul gaye
Mooh dikhaoge use kaise Alfaaz
Apne maalik ko agar bhul gaye

Agar bhul gaye


Post a Comment

0 Comments